तुम मुझे कोई फूल कहते थे,
पर कौनसा?
यह तुमने मुझपर छोड़ दिया कि मैं कौनसा फूल हूँ,
मैंने बुरांश को चुना,
तुमने पूछा क्यों?
मैंने कहा क्यों नहीं,
और तुम हंस बैठे।
एक बुरांश को तुमने मेरी टहनी से तोड़ कर अपने बालों में ठूंसा दिया,
मैं खिल उठी,
फूल के मानिंद

Previous articleफ़िक्शन
Next articleउल्कापिंड के गीले-गीले दीप
अंकिता वर्मा
अंकिता वर्मा हिमाचल के प्यारे शहर शिमला से हैं। तीन सालों से चंडीगढ़ में रहकर एक टेक्सटाइल फर्म में बतौर मार्केटिंग एग्जीक्यूटिव काम कर रही थीं, फिलहाल नौकरी छोड़ कर किताबें पढ़ रही हैं, लिख रही हैं और खुद को खोज रही हैं। अंकिता से [email protected] पर सम्पर्क किया जा सकता है!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here