चलो अब कुछ बड़े हो जाते हैं
छोड़ देते हैं मस्तियों को, नादानियों को
नहीं देखते उन सपनों को
जो सूरज और चाँद को छूने का दिलासा दिलाते हैं
दबा देते हैं उन हौसलों को जो
क्षितिज को छूने का दम भरते हैं
आसमानों को छोड़ देते हैं
ज़मीन को ही अपना बना लेते हैं
उतार देते हैं उन पंखों को जो
समय की रफ़्तार के विरुद्ध उड़ना जानते हैं
रंग बिरंगी रोशनियों को क्या करना
चलो एक दिए की टिमटिम से ही जीवन उजियाला कर लेते हैं

चलो अब कुछ बड़े हो जाते हैं
नहीं खेलते वो खेल जो
हारने पर भी हंसा जाते हैं
ऐसा करते हैं कुछ जो सिर्फ जीतना सिखाए
हो जिसमें चित भी मेरी और पट भी मेरा
बस जीतने का मज़ा चखने की आदत डाल लेते हैं
खुद तो हंस लो, दूजे को रुला दो
चलो दूसरों के दुःख में हंसने का राज़ ढूंढ लेते हैं

चलो अब कुछ बड़े हो जाते हैं
नहीं निभाते दोस्ती के वादे को, दुश्मनी निभा लेते हैं
हो जो दिल के पास हो किसी से प्यार इकरार
चलो किसी और के लिए अपने प्यार को दुत्कार देते हैं
न रस्मों की न रिवाजों की परवाह
जीवन की आपाधापी में सब रीती रिवाजों को भुला देते हैं

चलो अब कुछ बड़े हो जाते हैं
दोस्ती को रिश्तों को भुला देते हैं रंजिशों को पाल लेते हैं..!!

Previous articleशब्द और भावनाएँ
Next articleइस एक बूँद आँसू में
तरसेम कौर
A freelancer who loves to play with numbers and words.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here