1

चिड़ियों को मारा गया
इसलिए कि
उनके पंखों के पास था विस्तृत आसमान
नीचे घूमती हुई पृथ्वी
और वे
इन सबको लाँघ जाना चाहती थीं

आदमियों को मारा गया
इसलिए कि
वे चिड़ियों की तरह उड़ना चाहते थे उन्मुक्त
हवा की तरह बहना चाहते थे स्वच्छंद
जल स्रोतों की तरह अपना तल
स्वयं तलाश रहे थे

चिड़ियों के लिए
मौसम ने आँसू बहाए
आदमियों के लिए
आँसू बहाने वाले
गिरफ़्तार कर लिए गए।

2

चिड़िया
आदमी के बिस्तर पर
बीट फैला देती थी
आदमी
चिड़िया के घोंसले
उजाड़ देता था
यह उन दिनों की बात है
जब चिड़िया और आदमी
दोनों एक-दूसरे के दुश्मन थे

आदमी दिन-भर बीट साफ़ करता
चिड़िया तिनका-तिनका जोड़कर लाती
घोंसले बनाती

एक दिन आदमी ने
चिड़िया के ख़िलाफ़ मोर्चा बाँधा
चिड़िया चीं-चीं करती रही
आदमी के ख़िलाफ़
दोनों की आँखों में ख़ून था

एक बार आदमी ने
चिड़िया की आँखों में देखा
दूसरी बार चिड़िया ने
आदमी की आँखों में झाँका
फिर क्या था?
दोनों एक-दूसरे की आँखों में
देखते-झाँकते रहे
झाँकते और देखते रहे
और देखते-देखते
दोनों की आँखों का रंग बदलने लगा
दोनों की मुद्रा बदलने लगी
दोनों की भाषा बदलने लगी

चिड़िया ने पूछा—
वह कौन है जो मेरे पीछे
जाल और पिंजड़ा लिए घूमता है?
आदमी ने सवाल किया—
वह कौन है
जो हमें पहनाता है हथकड़ियाँ
भेजता है जेल?
चिड़िया ने कहा—नहीं
तुम मेरे दुश्मन नहीं हो
आदमी ने कहा—प्यार
मुझे तुमसे प्यार है!

कौशल किशोर की कविता 'दुनिया की सबसे सुन्दर कविता'

Book by Kaushal Kishore:

Previous articleहट जा… हट जा… हट जा
Next articleतू शब्दों का दास रे जोगी

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here