2017 में शुरू हुई यह वेबसाइट, अब ऐसा लगता है, सालों से चलती हुई आ रही है। हम चाहते थे कि हिन्दी की भी एक ऐसी वेबसाइट और सोशल मीडिया पोर्टल्स हों, जहाँ हिन्दी से जुड़ी ऊब टूटे और पाठक एक नए उत्साह के साथ इस भाषा और इसके साहित्य से जुड़ पाएँ। हम अपने इस उद्देश्य में कुछ सफल हो रहे हैं यह बात हमें आप लोगों के प्यार और बढ़ती हुई पाठकों की संख्या से पता चलती है। लेकिन साथ ही पोषम पा को चलाते रहने के लिए लगने वाला समय, धन और मेहनत भी बढ़ते जा रहे हैं।

ऐसे में, हम आपसे कुछ मदद की उम्मीद रखते हैं। पोषम पा की लोकप्रियता बढ़ते रहने के बावजूद इसे ऐसे ही चलाए रखना, आर्थिक दृष्टि से इतना आसान नहीं है। इसलिए हमें आपकी मदद की ज़रूरत है, जिससे पोषम पा पर लगने वाला समय, धन और मेहनत ऐसे ही चलती रहे और हम सबके लिए कविताओं और कहानियों से भरा यह कोना बना रहे।

अगर आपको हमारा काम पसंद है और हमारी मदद करने में आप स्वयं को समर्थ पाते हैं, तो मदद ज़रूर करें!