‘Ek-Dooje Ke Hisse Ka Pyar’, a poem by Vijay Rahi

एक समय था
जब दोनों का सब साझा था
सुख, दुःख,
हँसना, रोना,
नींद, सपने
या और कोई भी
ऐसी-वैसी बात।

कुछ चीज़ें ऐसी भी-
जो बेमतलबी लग सकती हैं
जैसे साबुन, स्प्रे, तौलिया
कभी-कभी शॉल भी।

शरारतें, शिकायतें,
ये तो साझा होनी ही थीं।

कार, मोबाईल,
फ़ेसबुक, व्हाट्सएप
और कुछ चीज़ें
छोटी-छोटी भी –
यहाँ तक कि रोटी भी।

अब नहीं रहा
तो कुछ नहीं रहा
सिवाय उस पाँच वर्षीय बच्चे के
जिसे करते हैं दोनों
एक-दूजे के हिस्से का भी प्यार।

यह भी पढ़ें: विजय राही की ग़ज़ल ‘किसी से इश्क़ करना चाहिए था’

Recommended Book:

Previous articleमुश्ताक़ अहमद यूसुफ़ी
Next articleमेरे पिता
विजय राही
विजय राही पेशे से सरकारी शिक्षक है। कुछ कविताएँ हंस, मधुमती, दैनिक भास्कर, राजस्थान पत्रिका, डेली न्यूज, राष्ट्रदूत में प्रकाशित। सम्मान- दैनिक भास्कर युवा प्रतिभा खोज प्रोत्साहन पुरस्कार-2018, क़लमकार द्वितीय राष्ट्रीय पुरस्कार (कविता श्रेणी)-2019

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here