उस युवती के अंदर अनेक युवतियाँ थीं
मेरे भीतर भी थे कई पुरुष

उस दिन हमने एक-दूसरे को नहीं देखा
कहने का अर्थ एक ने एक को नहीं देखा
उस दिन समूह ने समूह को देखा
जैसे देखी जाती है एक रेल में बैठकर
दूसरी गुज़रती रेलगाड़ी
जैसे कौओं का झुण्ड
निहारता है हंसों को

बड़ी ऐतिहासिक घटना थी!

उसके बाद हमने एक-एक को देखा—
मैंने देखा उसके भीतर के पाखी को सोते हुए
मरने लगा मेरे भीतर का बहेलिया धीरे-धीरे

देखा होगा उसने मेरे अंदर कोई संगीतकार
बजने लगी उसकी पायल छनक-छन, छनक-छन, छनक-छन

देखा मैंने उसके भीतर की एक बलवान स्त्री को रोते हुए
मैं भी पास की नदी को सारे आँसू सौंप आया
जो अंततः उस तक ही पहुँचे
नदी उसके भीतर की स्त्री है।

देखा उसे एक युवक के लिए ईश्वर से प्रार्थना करते हुए
जो नरम फूलों को कुचले जा रहा था
मैं भी घर आकर उनके पैरों पर गिर पड़ा
जिनसे बात किए बरसों हो गए थे
कुछ को सीने से लगा लिया
जो बरसों से पैरों पर गिरे थे।

देखा उसने मेरे भीतर अपने किसी प्रेमी को
जिसके छलने के बाद उसके भीतर की कई स्त्रियों ने दम तोड़ा था
फिर भी तैयार किया उसने ख़ुद को नये प्रेम के लिए
इतनी जीवटता एक स्त्री में नहीं आ सकती!

उसने मेरे भीतर के हर पुरुष को झकझोरा
मैंने उसके भीतर की हर स्त्री को पुचकारा

मुझे उस युवती से प्रेम करते हुए लगा
मैं एक आबादी से प्रेम कर रहा हूँ
और उस आबादी में बस स्त्रियाँ हैं

पाया मैंने अपने भीतर के
एक पुरुष को स्त्री में बदलते हुए
देखा मैंने उस स्त्री के प्रेम में
भीतर के सभी पुरुषों को एक होते हुए।

Recommended Book:

Previous articleसन्नाटा
Next articleनैराश्य, समय का शोक-गीत

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here