एक शाम सिर्फ़ अँधेरे से सजाई जाये
हवाएँ दबे पाऊँ आकर
स्लाइडिंग की दराज़ों में
बैठ जाएँ
तुम्हारी पिंडिलयों पर
मेरे पैर का अंगूठा लिख रहा हो
रात का सियाह गुदाज़ लफ़्ज़
तुम्हारी दाईं उँगलियों के नाख़ुन मेरे कंधे पर
गड़ रहे हों एक अन-कहे हर्फ़ की लज़्ज़त
होंठ तुम्हारे
दायरे की शक्ल में ढल कर
बन जाएँ फड़कती हुई आँख
या फिर कपकपाती हुई शम्मा की लौ
और मैं तुम्हारी गर्दन की साँवली
तितलियों का रंग चखूँ
तब तक, जब तक ये रंग मेरे तलवों तक भर कर
छलकने न लगें
और कमरे में अंगड़ाई लेकर जाग उठे
दुनिया की सबसे रंगीन सहर!

यह भी पढ़ें: तसनीफ़ हैदर की नज़्म ‘क़ुदरत की सबसे हसीन तख़लीक़’

Previous articleख़ुद से मिलने की फ़ुरसत किसे थी
Next articleगूँदनी
तसनीफ़
तसनीफ़ ने जामिआ मिल्लिया इस्लामिया से एम. ए. (उर्दू) किया है, और अब दिल्ली यूनिवर्सिटी से एम. फिल. कर रहे हैं । साथ ही तसनीफ़ एक ब्लॉगर भी हैं। उनका एक उर्दू ब्लॉग 'अदबी दुनिया' है, जिसमें पिछले दो वर्षों से उर्दू-हिंदी ऑडियो बुक्स पर उनके यूट्यूब चैनल 'अदबी दुनिया' के ज़रिये काम किया जा रहा है।