‘Ek Shehar Ka Ashavad’, a poem by Nirmal Gupt

मैं हमेशा उस महानगर में जाकर
रास्ते भूल जाता हूँ
जिसके बारे में यह कहा जाता है
कि वह हमेशा दूर ही रहता है

मैं इस शहर के रास्तों को
याद रखने की कोशिश बड़ी शिद्दत से करता हूँ
पर वे इतने पेचीदा हैं
कि मुझ जैसों को चकमा दे ही जाते हैं

रास्ते तो मेरे शहर के भी जटिल हैं
मैं उन्हें कभी याद नहीं रखना चाहता
पर वह भुलाए नहीं भूलते
किसी दुखती हुई रग की तरह सदा याद रहते हैं

सुना है इस महानगर में बड़ी तादाद में
सपनों की सस्ते दामों पर तिजारत होती है
मेरे शहर में सपने देखने वालों को
लोग अक्सर सिरफिरा कहते हैं

मैं अपने सपनों की तलाश में
महानगर की सड़कों पर
सही मंज़िल की ओर जाती
सड़क की तलाश में ख़ूब भटका हूँ

मेरा शहर महानगर में भटक-भटकाकर
थके हाल लौटने वालों को कभी नहीं चिढ़ाता
न चुभते हुए सवाल ही पूछता है
उसके लिए किसी का यूँ लौटना अप्रत्याशित नहीं होता

मेरा शहर मुझे कभी-कभी उस लाचार पिता-सा लगता है
जो तमाम उम्मीदों के ख़त्म हो जाने के बाद यही सोचता है
कि उसका बेटा कहीं नहीं जाएगा,
एक न एक दिन चला आएगा वापस उसके पास…

यह भी पढ़ें: ‘रामखिलावन जीना सीख रहा है’

Recommended Book:

निर्मल गुप्त
बंगाल में जन्म ,रहना सहना उत्तर प्रदेश में . व्यंग्य लेखन भी .अब तक कविता की दो किताबें -मैं ज़रा जल्दी में हूँ और वक्त का अजायबघर छप चुकी हैं . तीन व्यंग्य लेखों के संकलन इस बहुरुपिया समय में,हैंगर में टंगा एंगर और बतकही का लोकतंत्र प्रकाशित. कुछ कहानियों और कविताओं का अंग्रेजी तथा अन्य भाषाओं में अनुवाद . सम्पर्क : gupt.nirmal@gmail.com