जब भी तुम किसी आदमी को जेल जाते हुए देखो, अपने दिल में सोचना- “शायद वह एक और अधिक सँकरी जेल से भाग रहा है!”

और जब भी तुम किसी आदमी को नशे में देखो, अपने दिल में सोचना- “शायद वह एक ऐसी चीज़ से छुटकारा चाहता है जो और भी बदसूरत है!”

(अनुवाद: पुनीत कुसुम)

 

Previous articleलक्ष्य-भेद
Next articleतू अगर सैर को निकले
खलील जिब्रान
खलील जिब्रान (6 जनवरी, 1883 – 10 जनवरी, 1931) एक लेबनानी-अमेरिकी कलाकार, कवि तथा न्यूयॉर्क पेन लीग के लेखक थे। उन्हें अपने चिंतन के कारण समकालीन पादरियों और अधिकारी वर्ग का कोपभाजन होना पड़ा और जाति से बहिष्कृत करके देश निकाला तक दे दिया गया था। आधुनिक अरबी साहित्य में जिब्रान खलील 'जिब्रान' के नाम से प्रसिद्ध हैं, किंतु अंग्रेजी में वह अपना नाम खलील ज्व्रान लिखते थे और इसी नाम से वे अधिक प्रसिद्ध भी हुए।