हो गया है हर इकाई का विभाजन
राम जाने गिनतियाँ कैसे बढ़ेंगी?

अंक अपने आप में पूरा नहीं है
इसलिए कैसे दहाई को पुकारे
मान, अवमूल्यित हुआ है सैकड़ों का
कौन इस गिरती व्यवस्था को सुधारे

जोड़-बाकी एक से दिखने लगते हैं
राम जाने पीढ़ियाँ कैसे पढ़ेंगी?

शेष जिसमें कुछ नहीं ऐसी इबारत
ग्रन्थ के आकार में आने लगी है
और मज़बूरी, बिना हासिल किए कुछ
साधनों का कीर्तन गाने लगी है

माँग का मुद्रण नहीं करती मशीनें
राम जाने क़ीमतें कितनी चढ़ेंगी?

भूल बैठे हैं, गणित, व्यवहार का हम
और बिल्कुल भिन्न होते जा रहे हैं
मूलधन इतना गँवाया है कि ख़ुद से
ख़ुद-ब-ख़ुद ही खिन्न होते जा रहे हैं

भाग दें तो भी बड़ी मुश्किल रहेगी
राम जाने सर्जनाएँ क्या गढ़ेंगी?

Previous articleयूँही वाबस्तगी नहीं होती
Next articleदिल्ली की सैर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here