हम सब एक सीधी ट्रेन पकड़कर
अपने-अपने घर पहुँचना चाहते

हम सब ट्रेनें बदलने की
झंझटों से बचना चाहते

हम सब चाहते एक चरम यात्रा
और एक परम धाम

हम सोच लेते कि यात्राएँ दुःखद हैं
और घर उनसे मुक्ति

सच्चाई यूँ भी हो सकती है
कि यात्रा एक अवसर हो
और घर एक सम्भावना

ट्रेनें बदलना
विचार बदलने की तरह हो
और हम सब जब जहाँ जिनके बीच हों
वही हो
घर पहुँचना!

कुँवर नारायण की कविता 'कविता की ज़रूरत'

कुँवर नारायण की किताब यहाँ ख़रीदें:

Previous articleनाग पंचमी
Next articleपूनम त्यागी की कविताएँ
कुँवर नारायण
कुँवर नारायण का जन्म १९ सितंबर १९२७ को हुआ। नई कविता आंदोलन के सशक्त हस्ताक्षर कुँवर नारायण अज्ञेय द्वारा संपादित तीसरा सप्तक (१९५९) के प्रमुख कवियों में रहे हैं। कुँवर नारायण को अपनी रचनाशीलता में इतिहास और मिथक के जरिये वर्तमान को देखने के लिए जाना जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here