सुनो, तुम्हें ललकार रहा हूँ, सुनो घृणा का गान!

तुम, जो भाई को अछूत कह वस्त्र बचाकर भागे
तुम, जो बहिनें छोड़ बिलखती, बढ़े जा रहे आगे
रुककर उत्तर दो, मेरा है अप्रतिहत आह्वान!
सुनो, तुम्हें ललकार रहा हूँ, सुनो घृणा का गान!

तुम, जो बड़े-बड़े गद्दों पर ऊँची दुकानों में
उन्हें कोसते हो जो भूखे मरते हैं खानों में
तुम, जो रक्त चूस ठठरी को देते हो जल-दान!
सुनो, तुम्हें ललकार रहा हूँ, सुनो घृणा का गान!

तुम, जो महलों में बैठे दे सकते हो आदेश
‘मरने दो बच्चे, ले आओ खींच पकड़कर केश!’
नहीं देख सकते निर्धन के घर दो मुट्ठी धान!
सुनो, तुम्हें ललकार रहा हूँ, सुनो घृणा का गान!

तुम, जो पाकर शक्ति क़लम में हर लेने की प्राण
‘निःशक्तों’ की हत्या में कर सकते हो अभिमान
जिनका मत है, ‘नीच मरें, दृढ़ रहे हमारा स्थान’!
सुनो, तुम्हें ललकार रहा हूँ, सुनो घृणा का गान!

तुम, जो मन्दिर में वेदी पर डाल रहे हो फूल
और इधर कहते जाते हो, ‘जीवन क्या है? धूल!’
तुम, जिसकी लोलुपता ने ही धूल किया उद्यान!
सुनो, तुम्हें ललकार रहा हूँ, सुनो घृणा का गान!

तुम, सत्ताधारी, मानवता के शव पर आसीन
जीवन के चिररिपु, विकास के प्रतिद्वंद्वी प्राचीन
तुम, श्मशान के देव! सुनो यह रण-भेरी की तान!
आज तुम्हें ललकार रहा हूँ, सुनो घृणा का गान!

Book by Agyeya:

Previous articleवह जो आदमी है न
Next articleआज़ादी के बाद
अज्ञेय
सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन "अज्ञेय" (7 मार्च, 1911 - 4 अप्रैल, 1987) को कवि, शैलीकार, कथा-साहित्य को एक महत्त्वपूर्ण मोड़ देने वाले कथाकार, ललित-निबन्धकार, सम्पादक और अध्यापक के रूप में जाना जाता है। इनका जन्म 7 मार्च 1911 को उत्तर प्रदेश के कसया, पुरातत्व-खुदाई शिविर में हुआ। बचपन लखनऊ, कश्मीर, बिहार और मद्रास में बीता। बी.एससी. करके अंग्रेजी में एम.ए. करते समय क्रांतिकारी आन्दोलन से जुड़कर बम बनाते हुए पकड़े गये और वहाँ से फरार भी हो गए। सन् 1930 ई. के अन्त में पकड़ लिये गये। अज्ञेय प्रयोगवाद एवं नई कविता को साहित्य जगत में प्रतिष्ठित करने वाले कवि हैं। अनेक जापानी हाइकु कविताओं को अज्ञेय ने अनूदित किया। बहुआयामी व्यक्तित्व के एकान्तमुखी प्रखर कवि होने के साथ-साथ वे एक अच्छे फोटोग्राफर और सत्यान्वेषी पर्यटक भी थे।