हेनरिक हाइन – कुछ पंक्तियाँ

Heinrich Heine Quotes in Hindi
[अनुवाद: पुनीत कुसुम]

 

“निस्संदेह भगवान मुझे माफ़ कर देगा। यह उसका काम है।”

 

“अनुभव एक अच्छा स्कूल है, पर वहाँ फ़ीस बहुत ज़्यादा है।”

 

“नींद अच्छी चीज़ है, मौत उससे भी बेहतर; लेकिन हाँ सबसे बढ़िया होता अगर हम पैदा ही नहीं हुए होते।”

 

“जहाँ कहीं लोग किताबों को जलाते हैं, वे अन्त में मनुष्यों को भी अवश्य जलाएँगे।”

 

“तारीफ़ से केवल उसी का फ़ायदा होता है, जो आलोचना की क़द्र करता हो।”

 

“शादी की बारातों पर बजाया जाने वाला संगीत मुझे हमेशा उस संगीत की याद दिलाता है जो युद्ध में जाते सैनिकों के लिए बजाया जाता है।”

 

“क्राइस्ट गधे की सवारी किया करते थे, लेकिन अब गधे क्राइस्ट की सवारी करते हैं।”

 

“काम करने वाले लोग, अन्ततः विचार करने वाले लोगों के अनजाने हथियार हैं।”

 

“हमें अपने दुश्मनों को माफ़ कर देना चाहिए, लेकिन जब वे फाँसी पर चढ़ाए जा चुके हों तब, उससे पहले नहीं।”

 

“मुझसे यह मत पूछो कि मेरे पास क्या है, बल्कि यह पूछो कि मैं क्या हूँ।”

 

“मैंने कभी ऐसा गधा नहीं देखा जो आदमी की तरह बात करता हो, लेकिन ऐसे बहुत से आदमियों से मिला हूँ, जो गधों की तरह बात करते हैं।”

 

“प्रकृति अभद्रता नहीं जानती, आदमी उसका आविष्कार करता है।”

यह भी पढ़ें:

ख़ालिद हुसैनी की कुछ पंक्तियाँ
लॉरेंस डरल के उद्धरण
हारुकी मुराकामी की कुछ पंक्तियाँ

Book by Heinrich Heine: