हिटलरशाही से कैसे पेश आएँ?

‘Hitlershahi Se Kaise Pesh Aaein’, an article by Mahatma Gandhi

किताब ‘युद्ध और अहिंसा’ से

हिटलर अन्त में कैसा ही साबित हो, हिटलरशाही का जो अर्थ बन गया है वह हम जानते हैं। इसका अर्थ है बल का नग्न और क्रूर प्रयोग, जिसे ठीक विज्ञान में घटा दिया गया है और वैज्ञानिक शोध के साथ जिसे काम में लाया जा रहा है। इसका असर लगभग अदम्य होता है।

सत्याग्रह के शुरूआत के दिनों में, जबकि उसे निष्क्रिय प्रतिरोध ही कहा जाता था, जोहान्सबर्ग के ‘स्टार’ पत्र को शस्त्रास्त्र से ख़ूब सज्जित सरकार के ख़िलाफ़ मुट्ठी भर ऐसे भारतीयों को उठते हुए देखकर, जो निशस्त्र ही नहीं बल्कि चाहते तो भी संगठित हिंसा के अनुपयुक्त थे, बड़ा आश्चर्य हुआ। उनपर रहम खाकर उसने एक व्यंग-चित्र छापा, जिसमें सरकार को अदम्य बलसूचक स्टीमरोलर का रूप दिया गया था और निष्क्रिय प्रतिरोध को ऐसे हाथी की शकल दी गयी थी जो अपनी जगह पर आराम के साथ अडिग बैठा हुआ था। उसे अविचलित बल बतलाया गया था। अदम्य और अचल बल के बीच जो द्वन्द्व था उसकी बारीकी में व्यंग चित्रकार अच्छी तरह पहुँच गया। उस वक़्त एक ज़िच पड़ी हुई थी। नतीजा जो हुआ वह हम जानते ही हैं। जिसे अदम्य चित्रित किया गया था उसका सत्याग्रह के अचल बल ने, जिसे हम बदले की भावना के बग़ैर कष्ट सहना कह सकते हैं, सफलतापूर्वक प्रतिरोध किया।

उस वक्त जो बात सच साबित हुई वह अब भी उतनी ही सच हो सकती है। हिटलरशाही को हिटलरशाही तरीक़ों से कभी हराया नहीं जा सकेगा। उससे तो दस गुनी तेज़ या ऊँचे दर्जे की हिटलरशाही का ही पोषण होगा। हमारे सामने जो कुछ हो रहा है वह तो हिंसा और हिटलरशाही की भी निष्फलता का ही प्रदर्शन है।

हिटलरशाही की असफलता से मेरा क्या मतलब है, यह मैं बतला दूँ। इसने छोटे राष्ट्रों को उनकी स्वतंत्रता से वंचित कर दिया है। इसने फ़्राँस को शांति-प्रार्थना करने के लिए बाध्य किया है। जब यह लेख छपेगा, उस वक़्त तक शायद ब्रिटेन को भी अपने सम्बन्ध में कुछ निश्चय कर लेना पड़े। मेरी दलील के लिए तो फ़्राँस का पतन ही काफ़ी है। मेरे ख़याल में, जो अनिवार्य था उसके आगे सिर झुकाकर और मूर्खतापूर्ण आपसी क़त्लेआम में भागी बनने से इन्कार करके फ़्रांसिसी राजनीतिज्ञों ने असाधारण साहस का परिचय दिया है। अपना सब कुछ खोकर फ़्राँस के विजयी बनने का कोई अर्थ नहीं है। स्वतन्त्रता का जिन्हें उपभोग करना है उन सभी का उसे प्राप्त करने में ख़ात्मा हो जाये तो स्वतन्त्रता-प्राप्ति का वह प्रयत्न उपहास्य हो जाता है। उस हालत में वह महत्त्वाकांक्षा का निन्दनीय संतोष बन जाता है। फ़्रांसिसी सैनिकों की वीरता विश्वविख्यात है। लेकिन शांति का प्रस्ताव रखने में फ़्रांसिसी राजनीतिज्ञों ने उससे भी बड़ी जो बहादुरी बतलायी है उसे भी दुनिया को जान लेना चाहिए। मेरे ख़याल में फ़्रांसिसी राजनीतिज्ञों ने यह मार्ग सच्चे सैनिकों को शोभा देने लायक पूरे समानपूर्ण तरीक़े से ग्रहण किया है। इसलिए मुझे आशा करनी चाहिए कि हेर हिटलर इसके लिए कोई अपमानपूर्ण शर्ते न लगाकर यह दिखलाएँगे कि हालाँकि वह लड़ निर्दयता के साथ सकते हैं, मगर कम-से-कम शान्ति के लिए वह दयाहीनता से काम नहीं ले सकते।

अब हम फिर अपनी दलील पर आयें। विजय प्राप्त कर लेने पर हिटलर क्या करेंगे? क्या इतनी सारी सत्ता को वह पचा सकते हैं? व्यक्तिगत रूप में तो वह भी उसी तरह ख़ाली हाथ इस दुनिया से जायेंगे जैसे कि सिकन्दर गये थे जो उनके बहुत प्राचीन पूर्ववर्ती नहीं हैं। जर्मनों के लिए वह एक शक्तिशाली साम्राज्य की मालिकी का आनन्द नहीं बल्कि टूटते हुए साम्राज्य को सम्भालने का भारी बोझ छोड़ जायेंगे, क्योंकि सब जीते हुए राष्टों को वे सदा-सर्वदा पराधीन नहीं बनाये रख सकते, और इस बात में भी मुझे सन्देह है कि भावी पीढ़ी के जर्मन उन कामों में शुद्ध गर्वानुभव करेंगे जिनके लिए कि वे हिटलरशाही को ज़िम्मेदार ठहराएँगे। हिटलर की इज़्ज़त वे प्रतिभाशाली, वीर, अनुपम संगठन-कर्ता आदि के रूप में ज़रूर करेंगे। लेकिन मुझ आशा करनी चाहिए कि भविष्य के जर्मन अपने महापुरुषों के बारे में भी विवेक से काम लेने की कला सीख जायेंगे। कुछ भी हो, मेरे ख़याल में यह तो मानना ही होगा कि हिटलर ने जो मानव-रक्त बहाया है उससे संसार की नैतिकता में अणुमात्र मी वृद्धि नहीं हुई है।

इसके प्रतिकूल, आज के यूरोप की हालत की ज़रा कल्पना तो कीजिए। चेक, पोल, नार्वेवासी, फ़्रांसिसी और अंग्रेज सब ने अगर हिटलर से यह कहा होता तो कितना अच्छा होता कि ‘विनाश के लिए आपको अपनी वैज्ञानिक तैयारी करने की ज़रूरत नहीं है। आपकी हिंसा का हम अहिंसा से मुक़ाबला करेंगे। इसलिए टैकों, जंगी जहाज़ों और हवाई जहाज़ों के बग़ैर ही आप हमारी अहिंसात्मक सेना को नष्ट कर सकेंगे।’

इसपर यह कहा जा सकता है कि इसमें फ़र्क़ सिर्फ़ यही रहेगा कि हिटलर ने ख़ूनी लड़ाई के बाद जो कुछ पाया है वह उसे लड़ाई के बग़ैर ही मिल जाता। बिलकुल ठीक। लेकिन यूरोप का इतिहास तब बिलकुल जुदे रूप में लिखा जाता। अब जिस तरह अकथनीय बर्बरताओं के बाद क़ब्ज़ा किया गया है तब शायद (लेकिन सिर्फ़ शायद ही) अहिंसात्मक प्रतिरोध में ऐसा किया जाता। लेकिन अहिंसात्मक प्रतिरोध में सिर्फ़ वही मारे जाते जिन्होंने ज़रूरत पड़ने पर अपने मारे जाने की तैयारी कर ली होती और वे किसी को मारे व किसी के प्रति कोई दुर्भाव रखे बिना मरते। मैं यह कहने का साहस करता हूँ कि उस हालत में यूरोप ने अपनी नैतिकता को काफ़ी बढ़ा लिया होता और अन्त में, मेरा ख़याल है, नैतिकता का ही शुमार होता है। और सब व्यर्थ है।

यह सब मैंने यूरोप के राष्ट्रों के लिए लिखा है। लेकिन हमारे ऊपर भी यह लागू होता है। अगर मेरी दलील समझ में आ जाये, तो क्या हमारे लिए यह समय ऐसा नहीं है कि हम बलवानों की अहिंसा में अपने निश्चित विश्वास की घोषणा करके यह कहें कि हम हथियारों की ताक़त से नहीं बल्कि अहिंसा की ताक़त से अपनी स्वतन्त्रता की रक्षा करना चाहते हैं?

(‘हरिजन-सेवक’, 22 जून, 1940)

यह भी पढ़ें: ‘समझौते का कोई प्रश्न ही नहीं’

Book by Mahatma Gandhi: