‘How Heavy The Days’, a poem by Hermann Hesse

अनुवाद: पुनीत कुसुम 
(जेम्स राइट के अंग्रेज़ी अनुवाद पर आधारित)

कितने बोझिल हैं दिन!

कोई आग नहीं जो मुझे उष्णता दे सके
न कोई सूरज हँसने के लिए मेरे साथ
सब कुछ ख़ाली
सब कुछ उदासीन और निर्दयी

यहाँ तक कि प्यारे, धवल
सितारे भी एकाकी उदास दिखायी देते हैं
जब से हृदय ने जाना है कि
प्रेम मर सकता है।

यह भी पढ़ें: हरमन हेस की कविता ‘मैदानों में’

Book by Hermann Hesse:

Previous articleमैदानों में
Next articleकरामात
हरमन हेस
जर्मन उपन्यासकार, कहानीकार और कवि!

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here