1

जले तो जलाओ गोरी, पीत का अलाव गोरी
अभी न बुझाओ गोरी, अभी से बुझाओ ना।
पीत में बिजोग भी है, कामना का सोग भी है
पीत बुरा रोग भी है, लगे तो लगाओ ना।
गेसुओं की नागिनों से, बैरिनों अभागिनों से
जोगिनों बिरागिनों से, खेलती ही जाओ ना।
आशिकों का हाल पूछो, करो तो ख़याल पूछो
एक-दो सवाल पूछो, बात जो बढ़ाओ ना।

2

रात को उदास देखें, चाँद को निरास देखें
तुम्हें न जो पास देखें, आओ पास आओ ना।
रूप-रंग मान दे दें, जी का ये मकान दे दें
कहो तुम्हें जान दे दें, माँग लो लजाओ ना।
और भी हज़ार होंगे, जो कि दावेदार होंगे
आप पे निसार होंगे, कभी आज़माओ ना।
शे’र में ‘नज़ीर’ ठहरे, जोग में ‘कबीर’ ठहरे
कोई ये फ़क़ीर ठहरे, और जी लगाओ ना।

Book by Ibne Insha:

Previous articleमुज़फ़्फ़र हनफ़ी कृत ‘ग़ज़ल झरना’
Next articleये वो धरती नहीं है
इब्ने इंशा
इब्न-ए-इंशा एक पाकिस्तानी उर्दू कवि, व्यंगकार, यात्रा लेखक और समाचार पत्र स्तंभकार थे। उनकी कविता के साथ, उन्हें उर्दू के सबसे अच्छे व्यंगकारों में से एक माना जाता था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here