काफ़े रेस्त्राँ में हिलमिल कर बैठे। बातें
कीं; कुछ व्यंग्य-विनोद और कुछ नये टहोके
लहरों में लिए-दिए। अपनी-अपनी घातें
रहे ताकते। यों, भीतर-भीतर मन दो के
एक न हुए, समीप टिके, अपनापा खो के,
जीवन से अनजान रहे, पर गाना गाया
जन का, जीवन का, लेकिन दुनिया के हो के
दुनिया में न रहे। दुनिया को बुरा बताया।
उससे तन बैठे जिसने कुछ दोष दिखाया।
इस प्रकार से ढले नवीन इलाहाबादी
कवि साहित्यकार, जिनको भाती है छाया,
नहीं सुहाती आँखों को भू की आबादी।

जीवन जिस धरती का है। कविता भी उसकी
सूक्ष्म सत्य है, तप है, नहीं चाय की चुस्की।

***

त्रिलोचन की कविता 'तुम्हें जब मैंने देखा'

त्रिलोचन की किताब यहाँ ख़रीदें:

Previous articleजॉन डन की कविता ‘मैं इसलिए नहीं जा रहा हूँ’
Next articleनज़्में : तसनीफ़
त्रिलोचन
कवि त्रिलोचन को हिन्दी साहित्य की प्रगतिशील काव्यधारा का प्रमुख हस्ताक्षर माना जाता है। वे आधुनिक हिंदी कविता की प्रगतिशील त्रयी के तीन स्तंभों में से एक थे। इस त्रयी के अन्य दो सतंभ नागार्जुन व शमशेर बहादुर सिंह थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here