इंकार हम से ग़ैर से इक़रार बस जी बस
देखे तुम्हारे हम ने ये अतवार बस जी बस

इतना हूँ जा-ए-रहम जो करता है वो जफ़ा
तो उस से रो के कहते हैं अग़्यार बस जी बस

साक़ी हमें पिलाइए यूँ जाम पै-ब-पै
जो हम-नशीन कह उठें यक-बार बस जी बस

हूँ ना-उमीद वस्ल से यूँ जैसे वक़्त-ए-नज़अ
रो कर कहे तबीब से बीमार बस जी बस

ग़श हूँ मैं वक़्त-ए-बोसा जो कहता है हँस के वो
मुँह को हटा हटा के ब-तकरार बस जी बस

उस का जो बस जी बस मुझे याद आवे है तो आह
पहरों तलक मैं कहता हूँ हर बार बस जी बस

कल वो जो बोला टुक तो कहा हम ने मुँह फिरा
ख़ैर अब न हम से बोलिए ज़िन्हार बस जी बस

हम दिल लगा के तुम से हुए याँ तलक ब-तंग
जो अपने जी से कहते हैं लाचार बस जी बस

सुन कर कहा कि क्या मिरे लगती है दिल में आग
शिकवा से जब करे है तू इज़हार बस जी बस

ऐसे तमांचे मारुँगा मुँह में तिरे ‘नज़ीर
गर तू ने मुझ से फिर कहा एक बार बस जी बस

Previous articleसत्य के प्रयोग अथवा आत्मकथा – जन्म
Next articleमोमबत्ती के आँसू
नज़ीर अकबराबादी
नज़ीर अकबराबादी (१७४०–१८३०) १८वीं शदी के भारतीय शायर थे जिन्हें "नज़्म का पिता" कहा जाता है। नज़ीर आम लोगों के कवि थे। उन्होंने आम जीवन, ऋतुओं, त्योहारों, फलों, सब्जियों आदि विषयों पर लिखा। वह धर्म-निरपेक्षता के ज्वलंत उदाहरण हैं। कहा जाता है कि उन्होंने लगभग दो लाख रचनायें लिखीं। परन्तु उनकी छह हज़ार के करीब रचनायें मिलती हैं और इन में से ६०० के करीब ग़ज़लें हैं। आप ने जिस अपनी तमाम उम्र आगरा में बिताई जो उस वक़्त अकबराबाद के नाम से जाना जाता था।