जगमगाती रौशनी के पार क्या था देखते
धूल का तूफ़ाँ अंधेरे बो रहा था देखते

सब्ज़ टहनी पर मगन थी फ़ाख़्ता गाती हुई
एक शकरा पास ही बैठा हुआ था देखते

हम अंधेरे टापुओं में ज़िंदगी करते रहे
चाँदनी के देस में क्या हो रहा था देखते

जान देने का हुनर हर शख़्स को आता नहीं
सोहनी के हाथ में कच्चा घड़ा था देखते

ज़ेहन में बस्ती रही हर बार जूही की कली
बैर के जंगल से हम को क्या मिला था देखते

आम के पेड़ों के सारे फल सुनहरे हो गए
इस बरस भी रास्ता क्यूँ रो रहा था देखते

उसके होंठों के तबस्सुम पे थे सब चौंके हुए
उसकी आँखों का समुंदर क्या हुआ था देखते

रात उजले पैरहन वाले थे ख़्वाबों में मगन
दूधिया पूनम को किसने डस लिया था देखते

बीच में धुँधले मनाज़िर थे अगरचे सफ़-ब-सफ़
फिर भी ‘अम्बर’ हाशिया तो हँस रहा था देखते!

Previous articleमुझे ग़ुस्सा आता है
Next articleअकेला आदमी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here