पिता के पत्र पुत्री के नाम | Jawaharlal Nehru Letter to his daughter Indira Gandhi

 

संसार पुस्तक है
शुरू का इतिहास कैसे लिखा गया
जमीन कैसे बनी
जानदार चीजें कैसे पैदा हुईं
जानवर कब पैदा हुए
आदमी कब पैदा हुआ
शुरू के आदमी
तरह-तरह की कौमें क्योंकर बनीं
आदमियों की कौमें और जबानें
जबानों का आपस में रिश्ता
सभ्यता क्या है?
जातियों का बनना
मज़हब की शुरुआत और काम का बँटवारा
खेती से पैदा हुई तब्दीलियाँ
ख़ानदान का सरग़ना कैसे बना

 

Link to buy:

Pita Ke Patra Putri Ke Naam - Jawaharlal Nehru

Previous articleसमझौते का कोई प्रश्न ही नहीं
Next articleप्राचीन काल के भयंकर जन्तु
जवाहरलाल नेहरू
जवाहरलाल नेहरू (नवंबर १४, १८८९ - मई २७, १९६४) भारत के प्रथम प्रधानमन्त्री थे और स्वतन्त्रता के पूर्व और पश्चात् की भारतीय राजनीति में केन्द्रीय व्यक्तित्व थे। महात्मा गांधी के संरक्षण में, वे भारतीय स्वतन्त्रता आन्दोलन के सर्वोच्च नेता के रूप में उभरे और उन्होंने १९४७ में भारत के एक स्वतन्त्र राष्ट्र के रूप में स्थापना से लेकर १९६४ तक अपने निधन तक, भारत का शासन किया। वे आधुनिक भारतीय राष्ट्र-राज्य – एक सम्प्रभु, समाजवादी, धर्मनिरपेक्ष, और लोकतान्त्रिक गणतन्त्र - के वास्तुकार मानें जाते हैं। कश्मीरी पण्डित समुदाय के साथ उनके मूल की वजह से वे पण्डित नेहरू भी बुलाएँ जाते थे, जबकि भारतीय बच्चे उन्हें चाचा नेहरू के रूप में जानते हैं।