एक पेड़ गिराकर हर बार
मृत्यु की एक नयी परिभाषा गढ़ी जाती है
तुम्हारी छोड़ी गयी साँसों पर ही ज़िन्दा है जो
उसके काट दिये जाने से
उम्र की सरहदें भी सिकुड़ती जाती हैं।

काट दोगे किसी बरगद की बाँहें तो
हवा के बेख़ौफ़ झोंके रोज़ सनसनी मचायेंगे
उखाड़ फेंकोगे गर ज़मीन से एक भी जड़
भूख से उपजे ख़ंज़र तुम्हारा ख़ून बहायेंगे।

बेघर परिन्दों के मुकद्दस घरौंदें
रौंद देने से चहक बुलबुल की रोती है ख़्वाब में
भूल जाती हैं ललचाई हुई क़ौमें
एक आग भी होती है फूलों के हिज़ाब में।

ज़रूरत पर एक बूँद की, समन्दर लाते हैं
चल नहीं सकते मगर दुनिया चलाते हैं
जो बीज बनकर दफ़न होना जानते हैं
वो दरख़्त बनकर कभी भी उग जाते हैं।

सुनी होगी चिपको वूमैन गौरा के साहस की कथा
जिसकी याद में सुबकते हैं हिमाचल के हज़ारों देवदार
उत्तराखण्ड के जंगलों मे लगती है जब-जब भी आग
झुलसे हुए पेड़ करते हैं किसी बहुगुणा का इन्तजार।

बरगद, नीम, शहतूत, आम, बाँस ओ’ शीशम हो
सागवान, ख़ेजड़ी, तुलसी, चंदन और सफ़ेदा हो
हर तरफ़ नज़र में जिसकी गुलाब, पलाश, गेंदा हो
चाहता हूँ एक अमीर ख़ुसरो फिर से पैदा हो
जो कहीं भी बैठे, लेटे और कहता-कहता ना रूके
“अगर फिरदौस बर रू-ए-जमीं अस्त
अमीं अस्तो अमीं अस्तो अमीं अस्त।”

यह भी पढ़ें:

मुदित श्रीवास्तव की कविता ‘पेड़ों के छिपाकर रखी तुम्हारे लिए छाँव’
विशाल अंधारे की कविता ‘मैं पहाड़ होना चाहता हूँ’

Previous articleमोहब्बत देखूं
Next articleश्रीलाल शुक्ल – ‘राग दरबारी’
राहुल बोयल
जन्म दिनांक- 23.06.1985; जन्म स्थान- जयपहाड़ी, जिला-झुन्झुनूं( राजस्थान) सम्प्रति- राजस्व विभाग में कार्यरत पुस्तक- समय की नदी पर पुल नहीं होता (कविता - संग्रह) नष्ट नहीं होगा प्रेम ( कविता - संग्रह) मैं चाबियों से नहीं खुलता (काव्य संग्रह) ज़र्रे-ज़र्रे की ख़्वाहिश (ग़ज़ल संग्रह) मोबाइल नम्बर- 7726060287, 7062601038 ई मेल पता- [email protected]

2 COMMENTS

  1. […] राहुल बोयल की कविता ‘झुलसे हुए पेड़&#8217… प्रीती कर्ण की कविता ‘कटते वन’ रचना की कविता ‘विकास की क़ीमत’ मुदित श्रीवास्तव की कविता ‘पेड़ों ने छिपाकर रखी तुम्हारे लिए छाँव’ […]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here