जिस तरह आती हो तुम

जिस तरह आती हो तुम
अपने इस पागल कवि से मिलने
रोज़-रोज़।
जब मिलती हो, ख़ूब मिलती हो,
बाथ भर-भरकर
फिर महिनों तक कोई खोज-ख़बर नहीं।

जिस तरह आती हैं सूरज की किरणें
पहाड़ो के कंधों से उतरकर धरती पर
धीरे-धीरे।
कई बार बादलों का कम्बल उतारकर
आसमानी खिड़की से सीधे कूद जाती हैं।

जिस तरह आती हैं हमारे घर मौसियाँ
बार-त्यौहार पर, बाल-मनुहार पर, सोग पर
कभी-कभी तो अचानक आकर
चौंका देती हैं।

ठीक इसी तरह आती है कविता
और इस चौंका देने वाली ख़ुशी का कोई तोड़ नहीं है।

यह भी पढ़ें:

धूमिल की कविता ‘कविता’
अनुराग अनंत की कविता ‘कविता की सलीब
रघुवीर सहाय की कविता ‘कविता बन जाती है’
जयप्रकाश कर्दम की कविता ‘कविता में आदमी’