जो तकब्बुर से भटकती है ज़बाँ
आगे-आगे फिर बहकती है ज़बाँ

हो गया नासूर हर इक लफ़्ज़ है
बोलता हूँ पकने लगती है ज़बाँ

जिल्द से छन-छन के बहते हैं ख़याल
और आँखों से छलकती है ज़बाँ

नाम-ए-जाँ कितना गराँ है जान पे
हल्क़ गलता है, पिघलती है ज़बाँ

मोजिज़ा है ये भी उसके क़ौल का
बूँद बनकर जो बरसती है ज़बाँ

कुछ मुलाक़ातों में ही है ये असर
तुझ में भी मेरी झलकती है ज़बाँ

यह भी पढ़ें: ‘तस्वीर, रंग, तितलियाँ’ – आतिफ़ ख़ान की तीन नज़्में

Previous articleडॉ. विजयानन्द का महादेवी वर्मा से साक्षात्कार
Next articleतुम अपनी करनी कर गुज़रो

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here