जॉन गुज़लॉवस्की (John Guzlowski) नाज़ी यातना कैम्प में मिले माता-पिता की संतान हैं। उनका जन्म जर्मनी के एक विस्थापित कैम्प में हुआ। उनके माता-पिता पोलैंड से थे। वे अमेरिका में रहकर लेखन कर रहे हैं। जॉन का नाम अमेरिका के शीर्ष अमेरिकन-पोलिश कवियों में लिया जाता है। उनकी कविताओं में युद्ध एवं कैम्पों की ज़िन्दगी का सजीव चित्रण मिलता है। साथ ही वे अपने जीवन के विभिन्न घटनाक्रमों के बारे में भी कविता लिखते हैं। जॉन गुज़लॉवस्की की कविताएँ रैटल, नार्थ अमेरिकन रिव्यु, बारेन एवं अन्य जर्नलों में प्रकाशित हैं। उनके कई उपन्यास एवं कविता संग्रह प्रकाशित हैं। जॉन के कविता संग्रह ‘ईकोज़ ऑफ़ टैटर्ड टंग्स’ को बेंजामिन फ़्रेंक्लिन पोएट्री अवार्ड और एरिक हॉफर/मॉन्टन अवार्ड मिल चुका है। वे अमेरिका के सबसे पुराने पोलिश दैनिक अख़बार जीनिक ज़्वियाज़कोवी के लिए स्तम्भ लिखते हैं।

कविता: ‘मेरे लोग’ (‘My People’ from Echoes of Tattered Tongues: Memory Unfolded)
अनुवाद: देवेश पथ सारिया

मेरे लोग
सब ग़रीब लोग थे
उनमें से कुछ जीवित बच गए
मेरी आँखों में झाँकने
और मेरी उँगली छूने के लिए
और कुछ नहीं बचे
वे मर गए बुख़ार, भुखमरी
या चेहरे में धँसी गोली से
वे मर गए ख़ुद को दिलासा देते हुए
कि उनकी मौत के बदले जन्म हुआ
मेरा या किसी और बच्चे का

ऐसी कुछ कहानियाँ सुनाते हैं
ग़रीब लोग सांत्वना के तौर पर
सामर्थ्य जुटाने के लिए
अपनी क़ब्र से रेंगकर निकलने की

उन सभी में पर्याप्त ताक़त नहीं थी
पर कुछ में ज़रूर थी
और इसीलिए मैं यहाँ हूँ
और तुम पढ़ रहे हो
उनके बारे में कविता यह
क्या था जो उन्हें ताक़त देता था?
ताक़त शायद उन लोगों की आत्मा में थी

वे सिफ़र से शुरुआत करते हैं
और सिफ़र पर अंत होता है उनका
और होती है जीवन यात्रा उनकी
एक सिफ़र से दूसरे सिफ़र की

बर्फ़ और दुख के आतंक में
वे बने रहते हैं
बने रहते हैं बारिश में
जब तक कि कोई घोंप नहीं देता
उनके पेट में संगीन

जब तक कोई बीमारी
उन्हें जकड़ नहीं लेती है
वे चलते रहते हैं
भले ही सीढ़ी में फट्टे ना हो
भले कोई सीढ़ी ही ना हो…

जॉन गुज़लॉस्की की कविता ‘युद्ध और शान्ति’

किताब सुझाव:

Previous articleपिटाई विमर्श में शान्तिदूत : ‘स्वाँग’ से किताब अंश
Next articleडेविड बॉटम्स की कविता ‘पिता का बायाँ हाथ’
देवेश पथ सारिया
कवि एवं गद्यकार।पुस्तकें— 1. कविता संग्रह: 'नूह की नाव' (2022) : साहित्य अकादेमी, दिल्ली से। 2. कथेतर गद्य: 'छोटी आँखों की पुतलियों में' (2022) ताइवान डायरी : सेतु प्रकाशन, दिल्ली से। 3. अनुवाद: 'हक़ीक़त के बीच दरार' (2021) : वरिष्ठ ताइवानी कवि ली मिन-युंग के कविता संग्रह का हिंदी अनुवाद।उपलब्धियाँ : 1. ताइवान के संस्कृति मंत्रालय की योजना के अंतर्गत 'फॉरमोसा टीवी' पर कविता पाठ एवं लघु साक्षात्कार। 2. प्रथम कविता संग्रह का प्रकाशन साहित्य अकादेमी की नवोदय योजना के अंतर्गत। 3. बिंज एवं नोशन प्रेस द्वारा आयोजित राष्ट्रीय कहानी लेखन प्रतियोगिता (जुलाई-2022) में प्रथम स्थान।अन्य भाषाओं में अनुवाद/प्रकाशन: कविताओं का अनुवाद अंग्रेज़ी, मंदारिन चायनीज़, रूसी, स्पेनिश, बांग्ला, मराठी, पंजाबी और राजस्थानी भाषा-बोलियों में हो चुका है। इन अनुवादों का प्रकाशन लिबर्टी टाइम्स, लिटरेरी ताइवान, ली पोएट्री, यूनाइटेड डेली न्यूज़, स्पिल वर्ड्स, बैटर दैन स्टारबक्स, गुलमोहर क्वार्टरली, बाँग्ला कोबिता, इराबोती, कथेसर, सेतु अंग्रेज़ी, प्रतिमान पंजाबी और भरत वाक्य मराठी पत्र-पत्रिकाओं में हुआ है। सम्प्रति: ताइवान में खगोल शास्त्र में पोस्ट डाक्टरल शोधार्थी। मूल रूप से राजस्थान के राजगढ़ (अलवर) से सम्बन्ध।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here