अनंत के, अथाह के मध्य
शरीर के ज्ञात
आयतन की
संख्य ठोस सतहें हैं

परन्तु शुल्बसूत्रीय
मस्तिष्क के
अज्ञात घनफल की
थाह अगणित है

सांसारिक ज्यामिति
विषमतल है
और गणितीय हासिल
बहुभुज अशेष

अत: घनत्ववान होकर भी
माटी सम लचीला
द्रव्यमान हो जाना
तरल सी सरल भूमिति है!

〽️
© मनोज मीक

Previous articleफिर आई फ़स्ल-ए-गुल फिर ज़ख़्म-ए-दिल रह रह के पकते हैं
Next articleकोकिल
मनोज मीक
〽️ मनोज मीक भोपाल के मशहूर शहरी विकास शोधकर्ता, लेखक, कवि व कॉलमनिस्ट हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here