कब तक मुझ से प्यार करोगे
कब तक?
जब तक मेरे रहम से बच्चे की तख़्लीक़ का ख़ून बहेगा
जब तक मेरा रंग है ताज़ा
जब तक मेरा अंग तना है
पर इस के आगे भी तो कुछ है
वो सब क्या है
किसे पता है
वहीं की एक मुसाफ़िर मैं भी
अनजाने का शौक़ बड़ा है
पर तुम मेरे साथ न होगे तब तक…

यह भी पढ़ें:

 नसीम सय्यद की नज़्म ‘तुम्हारे बस में ये कब है’
शिवा की कविता ‘ग्लोबल वार्मिंग’
वर्षा गोरछिया की नज़्म ‘शायरा’
किश्वर नाहीद की नज़्म ‘क़ैद में रक़्स’

Link to buy the book:

Qatra Qatra - Fahmida Riaz

Previous articleमंटो
Next articleहमेशा दायरे की हद से बाहर सोचते हैं हम
फ़हमीदा रियाज़
फ़हमीदा रियाज़ उर्दू की प्रमुख शायरा एवं लेखिका हैं। इनका जन्म 28 जुलाई 1946 को मेरठ में हुआ। बाद में इनका परिवार पाकिस्तान जाकर बस गया। गोदावरी, ख़त-ए-मरमुज़ इनके प्रमुख संग्रह हैं। 1980 के दौर में पाकिस्तान के राष्ट्रपति जनरल जिया उल हक के शासन में उनको और उनके पति को निर्वासन के बाद भारत में शरण लेनी पड़ी थी।