खलील जिब्रान

Kahlil Gibran Quotes in Hindi

 

“दानशीलता यह नहीं है कि तुम मुझे वह वस्तु दे दो, जिसकी मुझे आवश्यकता तुमसे अधिक है, बल्कि यह है कि तुम मुझे वह वस्तु दो, जिसकी आवश्यकता तुम्हें मुझसे अधिक है।”

 

“अतिशयोक्ति एक ऐसी यथार्थता है जो अपने आपे से बाहर हो गई है।”

 

“दानशीलता यह है कि अपनी सामर्थ्य से अधिक दो और स्वाभिमान यह है कि अपनी आवश्यकता से कम लो।”

 

“संसार में केवल दो तत्व हैं- एक सौंदर्य और दूसरा सत्य। सौंदर्य प्रेम करने वालों के हृदय में है और सत्य किसान की भुजाओं में।”

 

“इच्छा आधा जीवन है और उदासीनता आधी मौत।”

 

 

“उदासी और कुछ नहीं, दो बाग़ों के बीच खड़ी एक दीवार है।”

 

“यथार्थ महापुरुष वह आदमी है जो न दूसरे को अपने अधीन रखता है और न स्वयं दूसरों के अधीन होता है।”

 

“निःसंदेह नमक में एक विलक्षण पवित्रता है, इसीलिए वह हमारे आँसुओं में भी है और समुद्र में भी।”

 

“यदि तुम जाति, देश और व्यक्तिगत पक्षपातों से ज़रा ऊँचे उठ जाओ तो निःसंदेह तुम देवता के समान बन जाओगे।”

 

“कुछ सुखों की इच्छा ही मेरे दुःखों का अंश है।”

 

“यदि तुम्हारे हाथ रुपए से भरे हुए हैं तो फिर वे परमात्मा की वंदना के लिए कैसे उठ सकते हैं।”

 

“मित्रता सदा एक मधुर उत्तरदायित्व है, न कि स्वार्थपूर्ति का अवसर।”

 

“मंदिर के द्वार पर हम सभी भिखारी ही हैं।”

 

“यदि अतिथि नहीं होते तो सारे घर क़ब्र बन जाते।”

 

“यदि तुम्हारे हृदय में ईर्ष्या, घृणा का ज्वालामुखी धधक रहा है, तो तुम अपने हाथों में फूलों के खिलने की आशा कैसे कर सकते हो?”

 

“यथार्थ में अच्छा वही है जो उन सब लोगों से मिलकर रहता है जो बुरे समझे जाते हैं।”

 

यह भी पढ़ें: जॉन कीट्स की कुछ पंक्तियाँ

Book by Kahlil Gibran: