‘Katte Van’, a poem by Preeti Karn

किसी दिन रूठ जाएगी कविता
जब कट जाऐंगे सड़क के
दोनों ओर लगे वृक्ष।
छाँव को तरसते पथिक
निहारेंगे याचना के अग्नि पथ
तप्त किरणें कोलतार की सड़कों के
साथ मिलकर लिखेंगी
अंगार गाथाएँ!
घोंसले टिकाने के लिए
नहीं बची होगी
कोई झुकी हरी भरी डाल
सारे पंछी
धर लेंगे दूसरी राह
कर लेंगे रुख
पूरब की ओर
लौट जाऐंगे
‘सब’
सुंदर वन!
फिर नहीं कूकेगी
कोई कोयल…
मौन हो जाएगी कविता!!

यह भी पढ़ें:

मुदित श्रीवास्तव की कविता ‘पेड़ों ने छिपाकर रखी तुम्हारे लिए छाँव’
राहुल बोयल की कविता ‘झुलसे हुए पेड़’
कृष्ण चंदर की कहानी ‘जामुन का पेड़’

Recommended Book: