अनुवाद: बलराम अग्रवाल

रात के काले परों ने शहर को अपनी गिरफ़्त में ले लिया था। बर्फ़ की सफ़ेद चादर उसके ऊपर आ तनी थी। गलियों-बाज़ारों में घूमते लोग गर्माहट की तलाश में घरों की ओर बढ़ चले थे। उत्तरी हवा ने सोए हुए बग़ीचों में हलचल मचा दी थी। बाहरी इलाक़े में खड़ी एक पुरानी झोंपड़ी बर्फ़ से इतनी दब गई कि गिरने-गिरने को हो गई। उस जर्जर झोंपड़ी के एक अँधेरे कोने में टूटी-सी एक चारपाई पर एक मरियल-सा नौजवान पड़ा था। वह अपनी लालटेन की धीमी पड़ती जा रही लौ को ताक रहा था जो हवा के झोंकों से काँप-काँप जाती थी। कम उम्र का वह नौजवान जीवन की जकड़ से अपनी मुक्ति के पल को बहुत नज़दीक से देख रहा था। वह उत्सुकता से मौत का इंतज़ार कर रहा था। उसके पीले चेहरे पर आशा के सूर्य की लालिमा थी। उसके होठों पर दुख-भरी मुस्कान थी और आँखों में क्षमाशीलता।

वह एक कवि था जो अमीरों के शहर में भूख से तड़प रहा था। अपनी जीवनदायी और सुखद वाणी द्वारा लोगों में जीवन का संचार करने के लिए उसे इस भौतिक जगत में भेजा गया था। वह पवित्र आत्मा था। मानवता की देवी ने उसे सत्कार्य के लिए पृथ्वी पर भेजा था। लेकिन हाय! धरती के वासी अजनबी और ठण्डे हैं। वह उनसे एक मुस्कान-भरी विदाई भी नहीं पा रहा है।

वह अपनी अंतिम साँसें ले रहा था। अकेलेपन की साथी उसकी लालटेन की लौ और काग़ज़ों के कमज़ोर पन्नों को, जिन पर उसने अपने हृदय के उद्गार लिख रखे थे, बचाने वाला कोई भी वहाँ नहीं था। अपनी पूरी ताक़त समेटकर उसने अपने हाथ ऊपर उठाए। निराशापूर्वक अपनी आँखें बन्द कीं, जैसे कि झोंपड़ी की छत और बादलों के पार चमक रहे तारों को देखना चाहता हो।

वह बोला, “आओ, हे ख़ूबसूरत मृत्यु! मेरी आत्मा तुम्हारा इंतज़ार कर रही है। मेरे पास आओ और ज़िन्दगी के लौह-वस्त्र को उतार ले जाओ क्योंकि इसे लादे-लादे मैं थक गया हूँ। आओ, हे मृदुल मौत! उन पड़ोसियों से दूर ले जाओ जो सिर्फ़ इसलिए कि मैं उन्हें देवत्व का पाठ सुनाता हूँ, मुझे अजनबी निगाहों से देखते हैं। जल्दी करो, हे शान्ति प्रदायिनी! इस भीड़ से, जिसने सिर्फ़ इसलिए कि मैं उसकी तरह निरीहों का ख़ून नहीं कर सकता, मुझे हताशा के अँधेरे कोने में धकेल दिया है, दूर ले जाओ। आओ, मुझे अपने सफ़ेद परों के नीचे छिपा लो क्योंकि मेरे दोस्तों को अब मेरी ज़रूरत नहीं है। मुझे प्यार और दुलार भरी झप्पी दो। मेरे इन होठों का चुम्बन लो, जिन्होंने माँ के चुम्बन का सुख कभी जाना ही नहीं। मैंने कभी न बहिन के गाल छुए और न ही प्रेमिका के पोरुओं का स्पर्श जाना। प्यारी मौत, आओ और मुझे उठा ले जाओ।”

तभी, उसकी चारपाई के किनारे एक देवदूत प्रकट हुआ। वह दिव्य आभा से दमक रहा था। उसके हाथ में लिली के फूलों का गुच्छा था। उसने उसे गले लगाया और पलकें बन्द कर दीं। उसके बाद अपनी शरीरी आँखों से वह कुछ नहीं देख पाया। उसने उसका एक गहरा, लम्बा और मुलायम-सा चुम्बन लिया जिससे उसके होंठों पर सुखपूर्ण आत्मिक मुस्कान तैर आयी। घर ख़ाली हो गया। कवि द्वारा लिखे हुए पन्ने उड़कर इधर-उधर बिखर गए।

सैकड़ों साल बाद, शहर के लोग अज्ञान की नींद से जागे और उन्होंने ज्ञान के सूर्य को उगते देखा। उन्होंने उस कवि की एक ख़ूबसूरत मूर्ति बनाकर शहर के सबसे अच्छे पार्क में स्थापित की। वहाँ उस कवि के, जिसकी वाणी ने उन्हें मुक्ति का मार्ग दिखाया था, सम्मान में वे हर वर्ष मेला लगाने लगे।

ओह! मानवीय अवहेलना कितनी क्रूर होती है!

खलील जिब्रान की लघुकथा 'औरत और मर्द'

Book by Kahlil Gibran:

Previous articleआत्मा की आवाज़
Next articleवर्णन
खलील जिब्रान
खलील जिब्रान (6 जनवरी, 1883 – 10 जनवरी, 1931) एक लेबनानी-अमेरिकी कलाकार, कवि तथा न्यूयॉर्क पेन लीग के लेखक थे। उन्हें अपने चिंतन के कारण समकालीन पादरियों और अधिकारी वर्ग का कोपभाजन होना पड़ा और जाति से बहिष्कृत करके देश निकाला तक दे दिया गया था। आधुनिक अरबी साहित्य में जिब्रान खलील 'जिब्रान' के नाम से प्रसिद्ध हैं, किंतु अंग्रेजी में वह अपना नाम खलील ज्व्रान लिखते थे और इसी नाम से वे अधिक प्रसिद्ध भी हुए।