‘Kavita Ka Arth’, a poem by Madan Daga

मेरी भाषा का व्याकरण
पाणिनि नहीं
पददलित ही जानते हैं
क्योंकि वे ही मेरे दर्द को
पहचानते हैं

मेरी कविता का कमल
बग़ीचे के जलाशयों में नहीं
झुग्गी-झोपड़ियों के कीचड़ में खिलेगा
मेरी कविता का अर्थ
उत्तर पुस्तिकाओं में नहीं
फुटपाथों पर मिलेगा!

यह भी पढ़ें:

नंदकिशोर आचार्य का वक्तव्य ‘कविता का कोई अर्थ नहीं है’
मीठालाल खत्री की कविता ‘सही अर्थ की तलाश’
गौरव अदीब की कविता ‘अनकहे में होता है ज़्यादा अर्थ’

Recommended Book:

Previous articleकाली चील
Next articleप्रेमचंद के जीवन के कुछ दुर्लभ चित्र

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here