बहुत कुछ दे सकती है कविता
क्योंकि बहुत कुछ हो सकती है कविता
ज़िन्दगी में

अगर हम जगह दें उसे
जैसे फलों को जगह देते हैं पेड़
जैसे तारों को जगह देती है रात

हम बचाए रख सकते हैं उसके लिए
अपने अन्दर कहीं
ऐसा एक कोना
जहाँ ज़मीन और आसमान
जहाँ आदमी और भगवान के बीच दूरी
कम से कम हो

वैसे कोई चाहे तो जी सकता है
एक नितान्त कविता-रहित ज़िन्दगी
कर सकता है
कविता-रहित प्रेम!

कुँवर नारायण की कविता 'प्यार की भाषाएँ'

Book by Kunwar Narayan:

Previous articleभाषा की लिपि
Next articleपरस्पर
कुँवर नारायण
कुँवर नारायण का जन्म १९ सितंबर १९२७ को हुआ। नई कविता आंदोलन के सशक्त हस्ताक्षर कुँवर नारायण अज्ञेय द्वारा संपादित तीसरा सप्तक (१९५९) के प्रमुख कवियों में रहे हैं। कुँवर नारायण को अपनी रचनाशीलता में इतिहास और मिथक के जरिये वर्तमान को देखने के लिए जाना जाता है।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here