किसी से इश्क़ करना चाहिए था

किसी से इश़्क करना चाहिए था
मुझे हद से गुज़रना चाहिए था

वो आँखों में उतरकर रह गया है
जिसे दिल में उतरना चाहिए था

मुहब्बत पाके भी तुम ख़ुश नहीं हो
तुम्हें तो डूब मरना चाहिए था

ये क्या पहली दफ़ा में भर ली हामी
ज़रा-सा तो मुकरना चाहिए था

हमें तन्हाई रास आने लगी है
तुम्हारा साथ वरना चाहिए था

यह भी पढ़ें: अल्हड़ बीकानेरी की ग़ज़ल ‘हफ़्तों उनसे मिले हो गए’

Recommended Book: