जब कई साँझ जला और
स्याह कर कई सवेरे,
मैं मान लेती हूँ ख़ुद से हार
और अनजाने में पुकार उठती हूँ
एक बार फिर तुम्हारा नाम,
तब तुम्हारा यह कहना कि
‘मैं दूर कब था?’
इतना अचम्भित नहीं करता
जितना मेरा इस पर विश्वास कर लेना

तुम्हें जितना खोती जाती हूँ
तुम्हें पाने की लालसा उतनी ही
मुखर होती जाती है,
इस मुखरता से तुम गर्वित हो
ओढ़ लेते हो तटस्थता का
और भी सघन आवरण

मैं जानती हूँ मेरे आँसू
तुम्हारे शुष्क हृदय में
कोई कोंपल नही उगा पाएँगे,
मैं जानती हूँ सम्वाद और
असम्वाद का समभाव भी,
क्योंकि तुमने सदा वर्णमाला के
कुछ वर्णों को व्यवस्थित कर
बोला भर है,
भावों की लिपि सदा मन बहलाने
का साधन मात्र रहीं

लेकिन मैं मूँद लेती हूँ आँखें
और लगा देती हूँ पूर्णविराम
हर प्रत्यक्ष संशय पर
क्योंकि मैं तुम्हें बस उतना ही
जानना चाहती हूँ जितना जानकर
तुम मेरी जान बने रह सको,
मेरे जीने के लिए
तुम्हारी शुचिता का भ्रम आवश्यक जो है!

तभी कहती हूँ अब किसी को भी
चाहना तो बस इतना चाहना कि
तुम्हारे संग न होने पर भी
उसकी जीने की चाह दम न तोड़े।

यह भी पढ़ें: निधि अग्रवाल की कविता ‘ज़िद्दी बिन्नो’

Recommended Book:

Previous articleनन्ही बच्चियाँ
Next articleउम्मीद
डॉ. निधि अग्रवाल
डॉ. निधि अग्रवाल पेशे से चिकित्सक हैं। लमही, दोआबा,मुक्तांचल, परिकथा,अभिनव इमरोज आदि साहित्यिक पत्रिकाओं व आकाशवाणी छतरपुर के आकाशवाणी केंद्र के कार्यक्रमों में उनकी कहानियां व कविताएँ , विगत दो वर्षों से निरन्तर प्रकाशित व प्रसारित हो रहीं हैं। प्रथम कहानी संग्रह 'फैंटम लिंब' (प्रकाशाधीन) जल्द ही पाठकों की प्रतिक्रिया हेतु उपलब्ध होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here