कितना अच्छा होता है

‘Kitna Achchha Hota Hai’, a poem by Sarveshwar Dayal Saxena

एक-दूसरे को बिना जाने
पास-पास होना
और उस संगीत को सुनना
जो धमनियों में बजता है,
उन रंगों में नहा जाना
जो बहुत गहरे चढ़ते-उतरते हैं।

शब्दों की खोज शुरू होते ही
हम एक-दूसरे को खोने लगते हैं
और उनके पकड़ में आते ही
एक-दूसरे के हाथों से
मछली की तरह फिसल जाते हैं।

हर जानकारी में बहुत गहरे
ऊब का एक पतला धागा छिपा होता है,
कुछ भी ठीक से जान लेना
ख़ुद से दुश्मनी ठान लेना है।

कितना अच्छा होता है
एक-दूसरे के पास बैठ खुद को टटोलना,
और अपने ही भीतर
दूसरे को पा लेना।

यह भी पढ़ें:

सर्वेश्वरदयाल सक्सेना की कविता ‘तुम्हारे लिए’
नवीन सागर की कविता ‘अपना अभिनय इतना अच्छा करता हूँ’
गौरव अदीब की कविता ‘अच्छा चलता हूँ’

Book by Sarveshwar Dayal Saxena: