रूपान्तर: नामदेव

1

एकलव्य की
गुरु-दक्षिणा:
लटका दो— सर
द्रोणाचार्य का
युगों तक!

2

दर्द ने
मेरा सीना चीरकर
मौत को टाल दिया!

3

सिन्धु!
तेरे सीने पर
छोड़े हैं पद-चिह्न
अपनी तहज़ीब के!

4

सूर्य को जब
हथेली से न ढाँक सकी
तब
आँखों को ढाँककर कहा—
सूर्य उदय नहीं हुआ!

5

हर दुर्घटना ने
मुझे एक
नयी राह दी है
आगे बढ़ने की!

6

दुःख कैसे बेशुक्रे हैं
जब अकेला पाते हैं
घेर लेते हैं!

7

राहों को
रोशन करने के लिए
जलाना पड़ता है
अन्तर तम को!

यह भी पढ़ें:

हर्षिता पंचारिया की क्षणिकाएँ
मनमोहन झा की क्षणिकाएँ

Recommended Book:

Previous articleएक दिन का मेहमान
Next article‘वो विल (will) करेगी ही नहीं, जब करेगी वोंट (won’t) करेगी’ – ‘हीरा फेरी’ से

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here