क्यों मुझे प्रिय हों न बन्धन!

बन गया तम-सिन्धु का, आलोक सतरंगी पुलिन सा,
रजभरे जग-बाल से है, अंक विद्युत् का मलिन-सा,
स्मृति-पटल पर कर रहा अब,
वह स्वयं निज रूप अंकन!

चाँदनी मेरी अमा का भेंटकर अभिषेक करती,
मृत्यु जीवन के पुलिन दो आज जागृति एक करती,
हो गया अब दूत प्रिय का
प्राण का सन्देश-स्पन्दन!

सजनि मैंने स्वर्ण-पिंजर में प्रलय का वात पाला,
आज पुंजीभूत तम को कर बना डाला उजाला,
तूल से उर में समा कर
हो रही नित ज्वाल चन्दन!

Previous articleकविता बन जाती है
Next articleटूट गया वह दर्पण निर्मम
महादेवी वर्मा
महादेवी वर्मा (२६ मार्च १९०७ — ११ सितंबर १९८७) हिन्दी की सर्वाधिक प्रतिभावान कवयित्रियों में से हैं। वे हिन्दी साहित्य में छायावादी युग के चार प्रमुख स्तंभों में से एक मानी जाती हैं। आधुनिक हिन्दी की सबसे सशक्त कवयित्रियों में से एक होने के कारण उन्हें आधुनिक मीरा के नाम से भी जाना जाता है।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here