लगभग

सारे आसमान के नीचे, एक दिन
शीशों के पर्दे होंगे
तुम, लगभग देख लोगे पूरा आसमान
बाज़ों की हल्की उड़ान
तुम, लगभग महसूस करोगे
अपनी पेशानी पर बारिश की टपकन, किरणों की चुभन

पूरी पृथ्वी के ऊपर, एक दिन
रूई के खेत होंगे
तुम, लगभग पोंछ लोगे छलकते ख़ून
तौलते रह सकोगे, ज़ख्मों को साँस रहने तक

तमाम शहर की सड़कों पर, एक दिन
दौड़ेगा कोई खूँख़ार जानवर
रेंगेगा भयानक अजगर
तुम भी दौड़ोगे, फुफकारोगे,
लगभग बचा लोगे मनुष्यता को निगलने से, खींचकर उनकी अंतड़ियों से

किसी दिन, पसीजेगा शीशा : ख़ून टपकेगा : मैं समझूँगा लगभग बारिश
महकेगी रूई : मैं सूँघूँगा लगभग गुलाब
दम्भ भरेगी मनुष्यता : मैं भरूँगा : किसी दिन और…

यह भी पढ़ें: विशेष चंद्र नमन की कविता ‘लौटूँगा धरती’