वरिष्ठ ताइवानी कवि ली मिन-युंग की कविताओं के हिन्दी अनुवाद का संकलन ‘हक़ीक़त के बीच दरार’ पिछले दिनों प्रकाशित हुआ। अनुवाद देवेश पथ सारिया ने किए हैं। किताब कलमकार मंच से प्रकाशित हुई है। प्रस्तुत हैं इसी किताब से कुछ कविताएँ—

सरहदें

(अंग्रेज़ी अनुवाद: के. सी. तू)

कोई सरहद नहीं होती
नीले सागर से घिरे
एक द्वीप की

कोई सरहद नहीं होती
चमकते आसमान के नीचे स्थित
एक द्वीप की

और वे होते कौन हैं
सरहदें तय करने वाले
लोहे के परकोटे बनाकर

कँटीली बाड़
कस देती है लगाम
उत्कण्ठा पर
लम्बी यात्राओं की

घनी जालियाँ
लगा देती हैं विराम
उम्मीदों पर
मुक्त उड़ान की।

स्वप्न

(अंग्रेज़ी अनुवाद: विलियम मार)

रात गहराने के बाद
हक़ीक़त के बीच थी एक दरार
जिससे होकर मैं बच निकला

हालाँकि
उम्र-क़ैद पाए क़ैदी की तरह
जेल में रखा था मुझे
तुमने

छूट भागने के बाद
आज़ाद था मैं

तुम नहीं जकड़ सके
मेरे हाथ में खिंची
प्यार की लकीर को
तुम नहीं पकड़ सके
मेरे क़दमों से छूटे
नफ़रत के निशानों को।

यदि तुम पूछो

(अंग्रेज़ी अनुवाद: जोयस हुआंग)

यदि तुम पूछो
कौन है ताइवान द्वीप का पिता
मैं तुम्हें कहूँगा
आकाश है ताइवान द्वीप का पिता

यदि तुम पूछो
कौन है ताइवान द्वीप की माँ
मैं तुम्हें कहूँगा
समुन्दर जननी है ताइवान द्वीप की

यदि तुम पूछो
क्या था ताइवान द्वीप का बीता हुआ कल
मैं तुम्हें बताऊँगा
ताइवान के इतिहास की परतों में दबे
ख़ून और आँसुओं के बारे में

यदि तुम पूछो
कैसा दीखता है वर्तमान ताइवान द्वीप का
मैं तुम्हें बताऊँगा
ताइवान की आत्मा को
गला रहा है
शक्ति-सम्पन्नों का भ्रष्टाचार

यदि तुम पूछो
कैसा होगा ताइवान द्वीप का भविष्य
मैं तुम्हीं से कहूँगा
अपने क़दमों पर खड़े हो जाने को
रास्ता भविष्य का
तुम्हारे लिए खुला है।

पुकार की सीमा में

(अंग्रेज़ी अनुवाद: लिन माइल्स)

दूर की आवाज़ें
सुन सकता हूँ मैं
आती हुईं
दुर्दान्त अपराधियों के लिए बने फाँसी-घरों से
या
अस्पताल के प्रसूति कक्ष से

रात के एकान्त में
मैं कविता पढ़ता हूँ
एक पराई ज़मीन से

कवि, भाषा की स्ट्रैचर पर
बचा लाता है
एक राजनीतिक बन्दी को
फाँसी-घर से
और बैप्टाइज़ करता है उसे

मुझे पूछो तो
बेहतर दृश्य यह होगा
कि सूरज चढ़ने से पहले
एक नवजात को हौले-से
झूला झुलाती हो कोई नर्स

गर्भाशय से अभी जन्मा
रोता हुआ बच्चा
सच में
स्त्रीत्व का आमोद है।

मेरा देश

(अंग्रेज़ी अनुवाद: लिन माइल्स)

मेरा देश
मेरे दिल में ज़ब्त
एक रहस्य है

वहाँ नहीं है कँटीली बाड़ तारों की
किसी फ़ौज की मौजूदगी नहीं

वहाँ का झण्डा, पत्तियों से बना हुआ
लहरें वहाँ, हवा में हिलोरें मारतीं

पूरे द्वीप की धरती पर स्थित पेड़
मानो झण्डे टाँगने के पोस्ट हैं

कलरव करता
पंछियों का एक झुण्ड
जंगल से उत्तर देता है
प्रकृति की संदेशवाहक
हवा की ताल का।

यह भी पढ़ें: 'अनुवाद का सौन्दर्य और ली मिन-युंग का काव्य-संसार'

‘हक़ीक़त के बीच दरार’ यहाँ से ख़रीदें:

Previous articleदुन्या मिखाइल की कविता ‘दी इराक़ी नाइट्स’ के दो अंश
Next articleआख़िर कहें तो किससे कहें
देवेश पथ सारिया
प्राथमिक तौर पर कवि। गद्य लेखन में भी सक्रियता।पुस्तकें: 'हक़ीक़त के बीच दरार' (2021, वरिष्ठ ताइवानी कवि ली मिन-युंग के कविता संग्रह का मेरे द्वारा किया गया हिंदी अनुवाद) प्रथम कविता संकलन एवं ताइवान के अनुभवों पर आधारित गद्य की पुस्तक शीघ्र प्रकाश्य।अन्य भाषाओं में प्रकाशन: मेरी कविताओं का अनुवाद अंग्रेज़ी, मंदारिन चायनीज़, रूसी, स्पेनिश, पंजाबी, बांग्ला, और राजस्थानी भाषा-बोलियों में हो चुका है। मेरी रचनाओं के ये अनुवाद यूनाइटेड डेली न्यूज़, लिबर्टी टाइम्स, लिटरेरी ताइवान आदि पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित हुए हैं।साहित्यिक पत्रिकाओं में प्रकाशन: हंस, नया ज्ञानोदय, वागर्थ, कथादेश, कथाक्रम, परिकथा, पाखी, आजकल, बनास जन, मधुमती, कादंबिनी, समयांतर, समावर्तन, जनपथ, नया पथ, कथा, साखी, अकार, आधारशिला, बया, उद्भावना, दोआबा, बहुमत, परिंदे, प्रगतिशील वसुधा, शुक्रवार साहित्यिक वार्षिकी, कविता बिहान, साहित्य अमृत, शिवना साहित्यिकी, गाँव के लोग, कृति ओर, ककसाड़, अक्षर पर्व, निकट, मंतव्य, गगनांचल, मुक्तांचल, उदिता, उम्मीद, विश्वगाथा, रेतपथ, अनुगूँज, प्राची, कला समय, प्रेरणा अंशु, पुष्पगंधा आदि ।समाचार पत्रों में प्रकाशन: राजस्थान पत्रिका, दैनिक भास्कर, प्रभात ख़बर, दि सन्डे पोस्ट।वेब प्रकाशन: सदानीरा, जानकीपुल, पोषम पा, लल्लनटॉप, हिन्दीनेस्ट, हिंदवी, कविता कोश, इंद्रधनुष, अनुनाद, बिजूका, पहली बार, समकालीन जनमत, मीमांसा, शब्दांकन, अविसद, कारवां, हमारा मोर्चा, साहित्यिकी, द साहित्यग्राम, लिटरेचर पॉइंट, अथाई, हिन्दीनामा।सम्मान: प्रभाकर प्रकाशन, दिल्ली द्वारा आयोजित लघुकथा प्रतियोगिता में प्रथम स्थान (2021)संप्रति ताइवान में पोस्ट डाॅक्टरल शोधार्थी। मूल रूप से राजस्थान के राजगढ़ (अलवर) से संबंध।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here