एक सीप ने पड़ोसी सीप से कहा, “मुझे बड़ा तेज दर्द महसूस हो रहा है। कोई भारी और गोल चीज़ है। मेरा दम निकला जा रहा है।”

दूसरी सीप ने अभिमानपूर्वक कहा, “ईश्वर को और सागर को लाख-लाख धन्यवाद। मुझे किसी प्रकार का दर्द नहीं है। मैं बाहर और भीतर दोनों ओर से ठीक-ठाक हूँ।”

उसी समय एक केकड़ा वहाँ से गुजर रहा था। उसने उन दोनों की बातचीत सुनी। उसने बाहर-भीतर से स्वस्थ सीप से कहा, “बेशक, तुम पूरी तरह ठीक हो। लेकिन जिस दर्द को तुम्हारी पड़ोसिन झेल रही है, वह अत्यन्त सुन्दर एक मोती है।”

Previous articleमाँ-बेटे
Next articleजोशना बैनर्जी आडवानी की कविताएँ
खलील जिब्रान
खलील जिब्रान (6 जनवरी, 1883 – 10 जनवरी, 1931) एक लेबनानी-अमेरिकी कलाकार, कवि तथा न्यूयॉर्क पेन लीग के लेखक थे। उन्हें अपने चिंतन के कारण समकालीन पादरियों और अधिकारी वर्ग का कोपभाजन होना पड़ा और जाति से बहिष्कृत करके देश निकाला तक दे दिया गया था। आधुनिक अरबी साहित्य में जिब्रान खलील 'जिब्रान' के नाम से प्रसिद्ध हैं, किंतु अंग्रेजी में वह अपना नाम खलील ज्व्रान लिखते थे और इसी नाम से वे अधिक प्रसिद्ध भी हुए।