माँ का दुःख

कितना प्रामाणिक था उसका दुःख
लड़की को दान में देते वक्त
जैसे वही उसकी अन्तिम पूँजी हो

लड़की अभी सयानी नहीं थी
अभी इतनी भोली सरल थी
कि उसे सुख का आभास होता था
लेकिन दुःख बाँचना नहीं आता था
पाठिका थी वह धुँधले प्रकाश की
कुछ तुकों और लयबद्ध पंक्तियों की

माँ ने कहा पानी में झाँककर
अपने चेहरे में मत रीझना
आग रोटियाँ सेंकने के लिए है
जलने के लिए नहीं
वस्त्र और आभूषण शब्दिक भ्रमों की तरह
बंधन हैं स्त्री-जीवन के

माँ ने कहा लड़की होना
पर लड़की जैसी मत दिखाई देना।

यह भी पढ़ें:

वीरेन डंगवाल की कविता ‘माँ की याद’
शिवा की कविता ‘अब माँ शांत है’
अमनदीप गुजराल की कविता ‘मेरी माँ’
नीरव पटेल की कविता ‘माँ! मैं भला कि मेरा भाई’

Link to buy the book:

Rituraj - Chuni Hui Kavitaaein - Kavi Ne Kaha