माँ भोर में उठती है
कि माँ के उठने से भोर होती है
ये हम कभी नहीं जान पाए

बरामदे के घोंसले में
बच्चों संग चहचहाती गौरैया
माँ को जगाती होगी
या कि माँ की जगने की आहट से
शायद भोर का संकेत देती हो गौरैया

हम लगातार सोते हैं
माँ के हिस्से की आधी नींद,
माँ लगातार जागती है
हमारे हिस्से की आधी रात

हमारे उठने से पहले
बर्तन धुल गए होते हैं
आँगन बुहारा जा चुका होता है
गाय चारा खा रही होती है
गौरैया के बच्चे चोंच खोले चिल्ला रहे होते हैं
और माँ चूल्हा फूँक रही होती है

जब हम खोलते हैं अपनी पलकें
माँ का चेहरा हमारे सामने होता है
कि माँ सुबह का सूरज होती है
चोंच में दाना लिए गौरैया होती है।

मंगलेश डबराल की कविता 'माँ की तस्वीर'

Recommended Book:

Previous articleअक्टूबर
Next articleप्रेम की कोई जगह

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here