मेहतम शिफ़ेरा (Mahtem Shiferraw) इथियोपिया और इरिट्रिया की एक लेखक और दृश्य कलाकार हैं। वह Your Body Is War (यूनिवर्सिटी ऑफ़ नेब्रास्का, 2019) और Fuchsia (यूनिवर्सिटी ऑफ़ नेब्रास्का प्रेस, 2016) की लेखिका हैं, जिन्हें अफ़्रीकी कवियों के लिए सिलेरमन फ़र्स्ट बुक प्राइज़ मिला।

मूल कविता: ‘Dust and Bones’
कवयित्री: Mahtem Shiferraw
अनुवाद: योगेश ध्यानी

मैं असहाय हूँ सागर में
और पृथ्वी, धूल और अस्थि का एक बुलबुला
मेरे चेहरे पर फिसलता है

यह मेरी कहानी नहीं है
फिर भी मैं इसमें हूँ
दूसरे नामों से जानी जाती हुई;
मेरे अतीत के सारे प्रेत
एक साथ पहुँचते हैं
और अस्वीकार करते हैं इसे—
वे इसमें एक परायेपन का बोध पाते हैं
जैसे कुछ फूँका और त्यागा हुआ हो

मैं असब की बालू के श्वेत लवण से
अपनी देह ढकने का स्वप्न देखती हूँ—

लाॅट की पत्नी ने भी तो बुदबुदाया था
अपनी अन्तिम साँसों में
अपने शहर का नाम

भले ही यह देह सिर्फ़ अस्थि है
टूटकर बिखर जाने के लिए बनी,
और कीच और धूल
मेरे किनारे तोड़ते हैं

फिर भी यह
एक नयी शुरुआत है
एक नयी मृत्यु।

निकानोर पार्रा की कविताएँ

Book by Mahtem Shiferraw:

Previous article‘अलगोज़े की धुन पर’ : प्रेम के परिपक्व रंगों की कहानियाँ
Next articleभरोसा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here