‘Main Kal Raat Nahi Roya Tha’, poetry by Harivansh Rai Bachchan

मैं कल रात नहीं रोया था।

दुःख सब जीवन के विस्मृत कर,
तेरे वक्षस्थल पर सिर धर,
तेरी गोदी में चिड़िया के बच्चे-सा छिपकर सोया था,
मैं कल रात नहीं रोया था।

प्यार-भरे उपवन में घूमा,
फल खाए, फूलों को चूमा,
कल दुर्दिन का भार न अपने पंखो पर मैंने ढोया था,
मैं कल रात नहीं रोया था।

आँसू के दाने बरसाकर
किन आँखों ने तेरे उर पर
ऐसे सपनों के मधुवन का मधुमय बीज, बता, बोया था?
मैं कल रात नहीं रोया था।

यह भी पढ़ें: ‘इस पार, प्रिये, मधु है तुम हो, उस पार न जाने क्या होगा’

Poetry by Harivansh Rai Bachchan:

Previous articleशोक-गीत
Next articleमछलियाँ
हरिवंशराय बच्चन
हरिवंश राय श्रीवास्तव "बच्चन" (27 नवम्बर 1907 – 18 जनवरी 2003) हिन्दी भाषा के एक कवि और लेखक थे। इलाहाबाद के प्रवर्तक बच्चन हिन्दी कविता के उत्तर छायावाद काल के प्रमुख कवियों मे से एक हैं। उनकी सबसे प्रसिद्ध कृति मधुशाला है। बच्चन जी की गिनती हिन्दी के सर्वाधिक लोकप्रिय कवियों में होती है।