मरी हुई लड़की
अपने मन से सजती-सँवरती नहीं है,
खुलकर हँसती भी नहीं है,
चुप इतनी होती है कि
रोती भी बेआवाज़ ही है,
उसकी साँस चलती तो है
लेकिन स्पंदन के बिना ही चलती है

ये बात और है कि
वो घर के सारे काम नियत समय पर
बेहद सलीक़े से करती रहती है

अपने आसपास कभी ग़ौर से देखना
शायद तुम्हें अपने घर में ही
कोई मरी हुई लड़की मिल जाए…

यह भी पढ़ें:

प्रताप सोमवंशी की कविता ‘लड़की चाहती है’
अमनदीप गुजराल की कविता ‘सुनो लड़की नया फ़रमान’
मृदुला सिंह की कविता ‘चौथी लड़की’

Previous articleसात कहानियाँ – लीडिया डेविस
Next articleप्रीता अरविन्द की कविताएँ

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here