ईसा मसीह
औरत नहीं थे
वरना मासिक धर्म
ग्यारह बरस की उमर से
उनको ठिठकाए ही रखता
देवालय के बाहर!

वेथलेहम और यरूजलम के बीच
कठिन सफर में उनके
हो जाते कई तो बलात्कार
और उनके दुधमुँहे बच्चे
चालीस दिन और चालीस रातें
जब काटते सड़क पर,
भूख से बिलबिलाकर मरते
एक-एक कर
ईसा को फुर्सत नहीं मिलती
सूली पर चढ़ जाने की भी।

मरने की फुर्सत भी
कहाँ मिली सीता को
लव-कुश के
तीरों के
लक्ष्य भेद तक?

यह भी पढ़ें: अनुराधा अनन्या की कविता ‘भागी हुई लड़कियों के घर’

Link to buy the book:

Pani Ko Sab Yaad Tha - Anamika

Previous articleलास्ट पेज नोट्स
Next articleपरसाई इन मुम्बई

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here