शब्द कभी-कभी
ठहर जाया करें
क्या करेंगे बोलकर
मौन रहे बीच में
तो कितना अच्छा
आँखें ही बोलें
आँखें ही सुनें
ये इशारे कितने ज़हीन होंगे न

रोज का मिलना
कभी-कभी के मिलने पर
भारी पड़ जाता है
ऐसा न करें
किसी मोड़ पर
ख़्वाब में ही मिल जाया करें

जमाने से खुद को बचाने का अच्छा तरीका है!

Previous articleबदलते रिश्ते
Next articleपुरखों का पानी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here