1985 में देहरादून में काम करते समय ओमप्रकाश वाल्मीकि के आँखों के सामने कुछ मज़दूरों की मौत हो गयी थी, जिसके बाद फ़ैक्ट्री, इंजीनियर और यहाँ तक कि मज़दूर यूनियन वालों ने भी उन मज़दूरों से कोई भी सम्बन्ध होने से इंकार कर दिया था। लाख कोशिशों के बावजूद वाल्मीकि जी उन मज़दूरों की कोई सहायता नहीं कर पाए थे। ऐसी मनोस्थिति में ही इस कविता का जन्म हुआ, जिसका पाठ वाल्मीकि जी ने बाद में उसी संगठन द्वारा कराये गए कवि सम्मलेन में हज़ारों मज़दूरों के सामने किया था। पढ़ें! (सम्बन्धित किताब- ‘जूठन’)

‘Maut Ka Tandav’, a poem by Omprakash Valmiki

शब्द हो जाएँ जब गूँगे
और भाषा भी हो जाए अपाहिज
समझ लो
कहीं किसी मज़दूर का
लहू बहा है

धूप से नहाकर
जब चाँदनी
करने लगे
अठखेलियाँ
धुएँ के बादलों से
समझ लो
अँधेरों ने उजालों को ठगा है

दर्द के रिश्ते
जब नम होने लगें
और गीत रचने लगेंगी
सन्नाटों की हवाएँ
समझ लो
आदमी का लहू
कहीं सस्ते में बिका है

धरती की गोद में
ओढ़कर चादर आकाश की
सो गए मज़दूर सभी
थक-हारकर
बजता रहा
बेरहम मौसम का नगाड़ा
रात भर
बर्फ़ीली हवाओं की लय-ताल पर

मौन खड़ा पर्वत
देख रहा था चुपचाप
मौत का ताण्डव
जो मिट्‌टी का सैलाब बन
टूट पड़ा गहरी नींद में सोए मज़दूरों पर
घुट-घुट कर
जिस्म ठण्डे पड़ गए
सर्द रात के सन्नाटों में

चिथड़ों में लिपटी लाशें
ख़ामोशी से चीख़ रही थीं
ढूँढ रही थीं
उन आँखों को
जिनके इशारों पर
करते थे निर्माण अबाध गति से
नित नयी सम्भावनाओं का

पूछ रही थी
पर्वतमालाओं से
अधबनी दीवारों से
असंख्य सवाल
शब्द हुए बोझिल
और भाषा भी हो गई अपाहिज
हाथों में
पैरों में पहना दी हों जैसे
ज़ंजीरें भारी

प्रश्नों के चक्रव्यूह में फँसे
पूछ रहे थे सभी
कल मरे वे
अब किसकी है
बारी?…
अब किसकी है
बारी?

यह भी पढ़ें: ‘घृणा तुम्हें मार सकती है’

Book ‘Jhuthan’ by Omprakash Valmiki: