मौत की तलाशी मत लो

बादलों में ही मेरी तो बारिश मर गई
अभी-अभी बहुत ख़ुश-लिबास था वो
मेरी ख़ता कर बैठा
कोई जाए तो चली जाऊँ
कोई आए तो रुख़्सत हो जाऊँ
मेरे हाथों में कोई दिल मर गया है
मौत की तलाशी मत लो
इंसान से पहले मौत ज़िन्दा थी
टूटने वाले ज़मीन पर रह गए
मैं पेड़ से गिरा साया हूँ
आवाज़ से पहले घट नहीं सकती
मेरी आँखों में कोई दिल मर गया है…

यह भी पढ़ें:

उसामा हमीद की नज़्म ‘मौत के फ़रिश्ते हड़ताल पर हैं’
कमलेश्वर की कहानी ‘दिल्ली में एक मौत’
ममता जयंत की कविता ‘मेरी शवयात्रा’