हल चलाने वाले का जीवन

गड़रिये का जीवन

मज़दूर की मज़दूरी

प्रेम-मज़दूरी

मज़दूरी और कला

मज़दूरी और फकीरी

समाज का पालन करने वाली दूध की धारा

पश्चिमी सभ्यता का एक नया आदर्श

Previous articleस्त्री
Next articleएक पन्ना और बस मैं
सरदार पूर्ण सिंह
सरदार पूर्ण सिंह (जन्म- 17 फ़रवरी, 1881, एबटाबाद; मृत्यु- 31 मार्च, 1931, देहरादून) भारत के विशिष्ट निबंधकारों में से एक थे। ये देशभक्त, शिक्षाविद, अध्यापक, वैज्ञानिक एवं लेखक भी थे। इसके साथ ही वे पंजाबी के जाने माने कवि भी थे। आधुनिक पंजाबी काव्य के संस्थापकों में पूर्ण सिंह की गणना होती है।

1 COMMENT

  1. […] सरदार पूर्ण सिंह के निबन्ध ‘मज़दूरी औ… रामवृक्ष बेनीपुरी का निबन्ध ‘गेहूँ बनाम गुलाब’ प्रतापनारायण मिश्र का निबन्ध ‘धोखा’ […]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here