शायद ऐसा ही हुआ होगा कभी-
सारी सतियों ने मिलजुल कर
किया होगा एक अनुसंधान
सतियों ने सर्वप्रथम
अपने सुहाग चिता से ‘राख’ ले ली होगी,
फिर सती-प्रथा जैसी कुप्रथा की
सारी ‘त्रुटियाँ’ लीं होंगी,

अपने ही स्वजनों द्वारा
सती बनाए जाने का ‘अन्याय’ लिया होगा,
जीवन को असमय त्यागने की
‘विवशता’ मिलायी होगी,
अपने प्रिय से बिछुड़न का
‘शोक’ लिया होगा,

और फिर इन सबको
अपनी सुहाग चिता पर झुलसे
रक्त में मिलाया होगा
फिर अपने अस्तित्व होम का
मंत्र पढ़ा होगा।

सतियों के सत-अनुष्ठान की
परिणति है – मेहँदी
जिसकी रक्तिम-आभा में
समाया हुआ सत-अनुष्ठान-
सभी सुहागिनों को,
शृंगार का साधन देकर
सदा-सुहाग का वर देकर
उन सतियों के विकल-वेदना से
अनभिज्ञता का
अभयदान देता है।

~:फिर लिखेंगे :~
नम्रता श्रीवास्तव

Previous articleप्रेम
Next articleसड़कें क़ब्र हैं
नम्रता श्रीवास्तव
अध्यापिका, एक कहानी संग्रह-'ज़िन्दगी- वाटर कलर से हेयर कलर तक' तथा एक कविता संग्रह 'कविता!तुम, मैं और........... प्रकाशित।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here